Latest News

कौन है सड़क किनारे सब्जी बेचने के साथ-साथ पढ़ने वाला यह लड़का, IAS ने शानदार मैसेज लिख शेयर की फोटो

IAS Awanish Sharan shares photo of a child who study on road side Read more at: https://hindi.oneindia.com/news/chhattisgarh/ias-awanish-sharan-shares-photo-of-a-child-who-study-on-road-side-with-these-motivational-lines/articlecontent-pf330085-598155.html

छत्‍तीसगढ़। सोशल मीडिया (Social Media) प्लेटफॉर्म पर कब किसकी तस्वीर वायरल (Viral Photo) हो जाए, कुछ कहा नहीं जा सकता है। ऐसा कुछ उस बच्चे के साथ हुआ है, जो रोजाना की तरह सड़क किनारे बैठकर सब्जी बेचा करता था और साथ में ही पढ़ाई भी। अब यह बच्चा सोशल मीडिया पर छा गया है। इसकी पूरी कहानी तेजी से वायरल हो रही है। वजह हैं आईएएस अधिकारी अवनीश शरण (IAS Awanish Sharan)।

‘हो कही भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए’

दरअसल, आईएएस अफसर अवनीश शरण ने एक बच्‍चे की फोटो ट्वीटर पर शेयर की है। यह फोटो कक्षा सात में पढ़ने वाले पुष्‍पेंद्र साहू की है। इस फोटो में पुष्‍पेंद्र सड़क क‍िनारे जमीन पर सब्‍जी की दुकान लगाकर बैठा है। साथ-साथ कॉपी पेन लिए मन लगाकर पढ़ाई भी कर रहा है। IAS अवनीश शरण ने फोटो के साथ शानदार मैसेज भी लिखा है, ‘हो कही भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए’। पुष्‍पेंद्र की फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है, जिसपर लोग प्रतिक्रिया दे रहे हैं और बच्‍चे के जज्‍बे को सलाम कर रहे हैं।

2009 बैच के आईएएस अधिकारी हैं अवनीश शरण

अवनीश कुमार शरण 2009 बैच के आईएएस अधिकारी हैं। वह सोशल मीडिया पर काफी एक्‍टिव हैं और अक्‍सर इस तरह की मोटिवेशनल तस्‍वीरें और वीडियोज शेयर करते रहते हैं। बीती 9 जनवरी को अवनीश शरण ने अपने ट्विटर हैंडल से एक वीडियो ट्वीट कर शख्स के अनोखे टैलेंट के बारे में बताया। अपने ट्वीट में लिखा, ‘एक ऐसे दृष्टि बाधित व्यक्ति द्वारा अंग्रेजी में क्रिकेट कमेंट्री की नकल, जिसने न तो कभी क्रिकेट मैच देखा और न ही वह अंग्रेजी जानता है। वह मैच देखने वाली भीड़ के सामूहिक शोर की नकल भी करता है. अद्भुत, अविश्वसनीय।

IAS को 10वीं में मिले थे महज 44.5 प्रतिशत अंक, FB पर शेयर कर चुके हैं मार्कशीट

IAS को 10वीं में मिले थे महज 44.5 प्रतिशत अंक, FB पर शेयर कर चुके हैं मार्कशीट
बता दें, आईएएस अधिकारी अवनीश कुमार फेसबुक पर अपनी हाईस्‍कूल की मार्कशीट तक शेयर कर चुके हैं, जिसमें उन्‍हें महज 44.5 प्रतिशत अंक मिले थे। दरअसल, 10वीं की बोर्ड परीक्षा में फेल हुए एक छात्र की आत्‍महत्‍या से व्यथित होकर उन्‍होंने फेसबुक पर छात्रों से कहा था कि आपके भीतर छिपी काबिलियत आगे कई बेहतरीन मौके देगी। अवनीश ने फेसबुक पर माता-पिता व छात्रों से अपील करते हुए ल‍िखा था, ‘यह एक नंबर गेम है। आपको अपने कैलिबर को साबित करने के कई और मौके मिलेंगे।’

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top