देश

इस शख्स ने लॉक डाउन मे बांद्रा स्टेशन पर जुटाये भीड़,अब हुआ गिरफ्तार

कल मुंबई के बांद्रा स्टेशन पर उस दौरान भारी अफरा तफरी मच गई जब लॉक डाउन में फैली एक अफवाह के बाद भारी संख्या में प्रवासी मजदूर अपने घर जाने के लिए इकट्ठा हो गए।इन मजदूरों में बंगाल बिहार उत्तर प्रदेश से आए मजदूर शामिल थे यह सभी लोग अपना घर जाना चाह रहे थे इस मामले में विनय दुबे नाम के एक शख्स को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।इस शख्स ने झूठी अफवाह फैला कर यहां मजदूरों को घर जाने के नाम पर इकट्ठा किया था।

विनय दुबे ‘घर चलो की ओर’ एक कैंपेन चला रहा

नवी पुलिस ने आज विनय दुबे को गिरफ्तार कर मुंबई पुलिस के हवाले कर दिया है।बता दें कि विनय दुबे ‘घर चलो की ओर’ एक कैंपेन चला रहे हैं इसी दौरान उसने अपने फेसबुक और ट्विटर अकाउंट पर मजदूरों को गुमराह करने वाले पोस्ट डालें। विनय दुबे अपने आप को ट्विटर अकाउंट पर इंट्रप्रेन्योर और सोशल एक्टिविटीज बताता है।

image source facebook

उसने लिखा है कि मैं कोई पॉलिटिकल पार्टी से नहीं हूं इसलिए मैं किसी के भी खिलाफ बोल सकता हूं।विनय दुबे के 5000 के आसपास फॉलो करने वाले है।विनय दुबे ने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक वीडियो पोस्ट किया है इस वीडियो में वह महाराष्ट्र  सरकार से मांग कर रहे हैं कि सरकार प्रवासी मजदूरों के लौटने का इंतजाम करें।

इस वीडियो में वह बोल रहा है कि अगर 18 अप्रैल तक ट्रेन इन्हीं चलेगी तो मजदूर इसका खुलकर विरोध करेंगे। इन पोस्टों के अलावा विनय दुबे प्रधानमंत्री मोदी जी के खिलाफ एवं सरकार के खिलाफ भी कई आपत्तिजनक पोस्ट भी किया है।

विनय दुबे ने 11 अप्रैल को किए अपने पोस्ट में लिखा है कि मैं महाराष्ट्र में फंसे उत्तर भारत के मजदूरों को उनके घर पहुंचा के ही रहूंगा भले ही इसके लिए सरकार मुझे जेल में ही क्यों नहीं डाल दे।इस मामले में पुलिस का कहना है कि सोशल मीडिया के इसी अफवाह के चलते ही यह अफवाह फैली और भारी मात्रा में मजदूर बांद्रा स्टेशन पर घर जाने के लिए एकत्रित हो गए।

कल ऐसा हुआ था

बता दें कि मंगलवार को भारी संख्या में मुंबई के बांद्रा स्टेशन पर प्रवासी मजदूर अपने घर जाने के लिए इकट्ठा हुए थे। जब पता चला कि ट्रेनी नहीं चलेगी तो उन्होंने हंगामा शुरू कर दिया। पुलिस ने बताया कि अब लॉक डाउन 3 मई तक बढ़ा दी गई है जिसके चलते अब से नहीं नहीं चलेगी। मजदूर लोग हंगामा करने लगे कुछ मजदूरों ने जब खाने की शिकायत की तो उन्हें खाने की पैकेट भी दी गई परंतु वह नहीं माने और वहीं पर हंगामा करते रहे तो पुलिस ने लाठीचार्ज कर भीड़ को हाथ से हटाया गया।

गृह मंत्री अमित शाह ने की बात

इस मामले का जानकारी लेते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने भी अपनी चिंता प्रकट की है। उन्होंने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से फोन पर बात करते हुए कहा कि कोरोना के खिलाफ जारी लड़ाई में इस तरह के मामले सही नहीं है।वही उद्धव ठाकरे ने मजदूरो को पूरी सहायता देने की बात कही।  

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top